जगाने मत आना

सोया हूँ
मुझे
जगाने मत आना.
बादल हूँ
मुझ पर
छाने मत आना.

उमड़-घुमड़ कर
और-और सघन
होता जाता हूँ.
किस-किस से
मिलकर
क्या-क्या
खोता-पाता हूँ!

फट जाऊं तो
बह जाएँगे
गिरि-शिखर
न जाने कितने,
इसीलिए उफन-उफन कर भी
मैं कभी नहीं
रोता-गाता हूँ.

अगणित पीड़ाएँ
छिपी हुई हैं
कोनों में,
गिरी यवनिका
आज
उठाने मत आना.

केंद्र वृत्त का
कालाहांडी
और
परिधि पर
चौपाटी है.
बंद-बंद रहने वाला
यह
मेरा मन
बुधना की
पाती है.
दबा-ढका है
जाने क्या-क्या
पर
कुछ भी
छिपा नहीं है,
मेरा खुलना मुश्किल है,
पर
खुलता हूँ
तो मुश्किल हो जाती है.

अपने मन की
अँधेरी बंद गुफा में -
खोया हूँ,
मुझको पाने मत आना.

इष्ट देव सांकृत्यायन

Comments

Popular posts from this blog

रामेश्वरम में

विदेशी विद्वानों के संस्कृत प्रेम की गहन पड़ताल

...ये भी कोई तरीका है!

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

रामेश्वरम में

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

...ये भी कोई तरीका है!

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

आइए, हम हिंदीजन तमिल सीखें

विदेशी विद्वानों के संस्कृत प्रेम की गहन पड़ताल

पेड न्यूज क्या है?

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?