मूल्यानुगत मीडिया अभिक्रम समिति की कार्ययोजनाओं पर चर्चा

 नई दिल्ली। मूल्यानुगत मीडिया अभिक्रम समिति के अध्यक्ष प्रो. संजय द्विवेदी को भारतीय जनसंचार संस्थान नई दिल्ली का महानिदेशक नियुक्त किए जाने पर समिति की ओर से ऑनलाइन सम्मान समारोह आयोजित किया गया। समारोह की अध्यक्षता भी प्रो.संजय द्विवेदी ने की। जिसमें मूल्यानुगत मीडिया अभिक्रम समिति के संचालन परिषद व कोर कमेटी के पदाधिकारियों सहित देशभर से अनेक वरिष्ठ पत्रकार शामिल हुए। इस समारोह में मूल्यानुगत मीडिया अभिक्रम समिति की भविष्य की कार्ययोजनाओं पर भी चर्चा की गई। बता दें कि दिसंबर 2019 में मध्यप्रदेश के इंदौर में हुए समिति के चुनाव में प्रो. संजय द्विवेदी को अध्यक्ष चुना गया था।

समारोह की शुरूआत में समिति की ओर से सचिव बी.के. डॉ रीना ने प्रो. संजय द्विवेदी का सम्मान किया। समिति के संस्थापक व वरिष्ठ पत्रकार प्रो.कमल दीक्षित ने प्रो.द्विवेदी का सम्मान करने के साथ समिति की कार्यवाही से सभी सदस्यों को अवगत कराया।

  • मूल्यानुगत मीडिया अभिक्रम समिति की बैठक
  • समिति ने प्रो. संजय द्विवेदी का किया सम्मान

इस अवसर पर प्रो. संजय द्विवेदी ने संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान समय में मीडिया के लोगों को मूल्यों के लिए प्रेरित व प्रभावित करना आसान नहीं है। लेकिन यदि फिर भी हम सभी अपनी मजबूत इच्छाशक्ति के अनुसार तय कर लें तो ऐसा जरूर कर पाएंगे। उन्होंने संदेशवाहक की भूमिका को महत्वपूर्ण बताया और मीडिया को भारतीय संस्कृति की दृष्टि से जोड़ने को लेकर बल दिया।

बैठक में प्रजापति ब्रह्माकुमारी ईश्वरीय विश्वविद्यालय की इंदौर जोनल प्रमुख बीके हेमलता दीदी ने संबोधित करते हुए वर्तमान परिस्थितियों के अनुसार मीडिया में आध्यात्म को जरूरी बताया।

जयपुर से वरिष्ठ पत्रकार एवं शिक्षाविद प्रो. संजीव भानावत ने कोरोना काल मीडिया के समक्ष उपजी चुनौतियों के बारे में बताया और समिति के विस्तार पर चर्चा की।

भोपाल से वरिष्ठ पत्रकार विनोद नागर ने संस्था की गतिविधियों को सुचारू रूप से चलाने के कुछ नए प्रस्ताव रखें। प्रस्तावों को बैठक में मौजूद सदस्यों की सहमति से पारित भी किया गया। बैठक में नई दिल्ली के वरिष्ठ पत्रकार वैभव वर्धन ने संबोधित करते हुए कहा कि मूल्यानुगत मीडिया के उद्देश्यों को अब एक मिशन के रूप में चलाया जाना चाहिए ताकि इस अच्छे विचार से अन्य लोग भी लाभान्वित हों।

Comments

Popular posts from this blog

रामेश्वरम में

...ये भी कोई तरीका है!

आइए, हम हिंदीजन तमिल सीखें

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

रामेश्वरम में

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

आइए, हम हिंदीजन तमिल सीखें

...ये भी कोई तरीका है!

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

विदेशी विद्वानों का संस्कृत प्रेम ( समीक्षा)