यह जमाना

यह ज़माना इस क़दर दुश्मन हमारा हो गया.
ख्वाब जो देखा था वो दिनका सितारा हो गया.
मेरे सीने में पला फिर भी ना मेरा हो सका -
एक नज़र देखा नहीं कि दिल तुम्हारा हो गया.
चाहतें कितनों की फूलों की अधूरी ही रहीं -
उम्र भर कांटो पे चलकर ही गुज़ारा हो गया.
एक शै को देख कर सबने अलग बातें कहीँ -
नज़रिया जैसा रहा वैसा नज़ारा हो गया.
वकफियत तक नहीं महदूद मेरी दोस्ती -
मुस्करा कर जो मिला वो ही हमारा हो गया.

विनय स्नेहिल



Comments

Popular posts from this blog

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Azamgarh : History, Culture and People

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

रामेश्वरम में

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

चित्रकूट की ओर

चित्रकूट में शेष दिन