झरने की हर झरती झलकी!

गोपाल बघेल मधु

झरने की हर झरती झलकी,
पुलकी ललकी चहकी किलकी;
थिरकी महकी कबहुक छलकी,
क्षणिका की कूक सुनी कुहकी! 

कब रुक पायी कब देख सकी,
रुख़ दुख सुख अपना भाँप सकी;
बहती आई दरिया धायी,
बन दृश्य विवश धरिणी भायी! 

कब पात्र बनी किसकी करनी,
झकझोर बहाया कौन किया;
कारण था कौन क्रिया किसकी,
सरका चुपके मग कौन दिया! 

प्रतिपादन आयोजन किसका
क्या सूत्रधार स्वर सूक्ष्म दिया;
हर घट बैठा घूँघट झाँका
चौखट टक टक देखा बाँका! 

चैतन्य चकोरी किलकारी
कैवल्य ललित लय सुर धारी;
क्या बैठा था हर मधुपलकी,
क्या वही नचाया दे ठुमकी! 


Comments

Popular posts from this blog

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

...ये भी कोई तरीका है!

प्रेम नाम होता बंधु!

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

रामेश्वरम में

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

चित्रकूट की ओर

चित्रकूट में शेष दिन