मैंने भगवा ओढ़ लिया है और मैं आतंकी हूँ…!!!

भगवा वो जो मेरे रोम रोम में बसा है… भगवा वो जो वीरता का प्रतीक है… भगवा वो जो अग्नि का प्रतीक है… भगवा वो जो तेज का प्रतीक है… भगवा वो जो साधू संतों का प्रतीक है …भगवा वो जो शौर्य का प्रतीक है…भगवा वो जो ओज का प्रतीक है… भगवा वो जो सूर्य का प्रतीक है …भगवा वो जो त्याग का प्रतीक है… भगवा वो जो उगते सूरज का प्रतीक है…भगवा वो जो शान का प्रतीक है…भगवा जो मेरा बसंती चोला है…भगवा वो जिसके लिए शहीदों ने अपना सर्वस्व न्यौछावर किया…भगवा वो जो मेरे तिरंगे में समाया है…भगवा कुछ खास लोगों की ना तो बपौती है और ना ही चिदम्बरम सरीखे लोगों की बेवकूफी …मेरा भगवा राम वाला है …मेरा भगवा कृष्ण वाला है…मेरा भगवा राणा प्रताप वाला है…मेरा भगवा शिवा वाला है…मेरा भगवा दयानंदी है…मेरा भगवा विवेकानान्दी है …मेरा भगवा किसी का विरोधी नहीं है…मेरा भगवा तो जग का भगवा है…जो हर कण में समाया है…मेरा भगवा तो मीरा वाला भगवा है…मेरा भगवा तो आन-बान-शान का रखवाला है…मेरा भगवा मेरी अस्मिता का रक्षक है…मेरा भगवा मेरा स्वाभिमान है…मेरा भगवा मेरी मां बहन की लाज है…मेरा भगवा संस्कृति है, परंपरा है, धरोहर है…मेरा भगवा मेरा हवन है …मेरा भगवा मेरी दीपशिखा है…मेरी हर सांस भगवा है,… मेरी सोच भगवा है… मेरा तन-मन सब भगवा है…मेरी आत्मा भी भगवा है…मेरा भगवा भगवा है…लहू वाला लाल नहीं…और फिर भी कहते हो कि भगवा आतंकी है…तो हाँ लो मैंने भगवा ओढ़ लिया है और मैं आतंकी हूँ…!!!

Comments

  1. अनिल जी,
    बहुत आग भरी लगती है आपके अन्दर�

    ReplyDelete
  2. ऐसी बेतुकी बातें जब जिम्मेदार लोग करें तो आग होनी ही चाहिए अल्का जी!

    ReplyDelete
  3. मे भगवा हुँ
    मुझमे भगवा है
    जो अँगुली इसपे उठेगी
    वो काट दी जाऐगी

    ReplyDelete
  4. मेरी आन बान शान और जान
    भगवा
    भगवा को फसाद बोलने वालो।
    हिन्दू माफ़ नहीं करेंगे ।

    जय श्री राम

    ReplyDelete
  5. मेरी आन बान शान और जान
    भगवा
    भगवा को फसाद बोलने वालो।
    हिन्दू माफ़ नहीं करेंगे ।

    जय श्री राम

    ReplyDelete

Post a Comment

सुस्वागतम!!

Popular posts from this blog

रामेश्वरम में

विदेशी विद्वानों के संस्कृत प्रेम की गहन पड़ताल

...ये भी कोई तरीका है!

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

रामेश्वरम में

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

...ये भी कोई तरीका है!

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

आइए, हम हिंदीजन तमिल सीखें

विदेशी विद्वानों के संस्कृत प्रेम की गहन पड़ताल

पेड न्यूज क्या है?

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?