सच यही है...

सय्याद के पंजों में चमन देख रहे हैं,
बन्दर के करों में भी अगन देख रहे हैं....
(प्रो.सारस्वत मोहन मनीषी)

Comments

Post a Comment

सुस्वागतम!!

Popular posts from this blog

रामेश्वरम में

...ये भी कोई तरीका है!

आइए, हम हिंदीजन तमिल सीखें

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

रामेश्वरम में

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

आइए, हम हिंदीजन तमिल सीखें

...ये भी कोई तरीका है!

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

विदेशी विद्वानों का संस्कृत प्रेम ( समीक्षा)