फाल्गुन आया रे !


गोरी को बहकाने
फाल्गुन आया रे ।

रंगों के गुब्बारे
फूट रहे तन आँगन,
हाथ रचे मेंहदी के
याद आते साजन ॥

प्रेम-रस बरसाने
फाल्गुन आया रे ।

यौवन की पिचकारी
चंचल सा मन,
नयनों से रंग कलश
छलकाता तन ॥

तन-मन को भरमाने
फाल्गुन आया रे ।

[] राकेश 'सोहम'


Comments

  1. आ गया है. स्वागतम

    ReplyDelete
  2. गली-गली में घूम रहीं हैं, हुलियारों की टोली।
    नाच उठी चञ्चल नयनों में, रंगों की रंगोली।।

    उड़ते हैं अम्बर में गुलाल,
    नभ-धरा हो गये लाल-लाल,
    गोरी का बदरंग हाल, थिरकी है हँसी-ठिठोली।
    नाच उठी चञ्चल नयनों में, रंगों की रंगोली।।

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    इसे 20.02.10 की चिट्ठा चर्चा (सुबह ०६ बजे) में शामिल किया गया है।
    http://chitthacharcha.blogspot.com/

    ReplyDelete
  4. गोरी को बहकाने
    तन-मन को भरमाने
    फाल्गुन आया रे ।
    बहुत सामयिक रचना...आभार.

    ReplyDelete
  5. आ गया फ़ागुन, झंकार होने लगी है।

    ReplyDelete
  6. फागुनी रंगों की अद्भुद छटा बिखेरती सरस मुग्धकारी रचना....

    पढवाने के लिए बहुत बहुत आभार...

    ReplyDelete

Post a Comment

सुस्वागतम!!

Popular posts from this blog

रामेश्वरम में

इति सिद्धम

पेड न्यूज क्या है?

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

रामेश्वरम में

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

...ये भी कोई तरीका है!

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

इति सिद्धम

आइए, हम हिंदीजन तमिल सीखें

विदेशी विद्वानों के संस्कृत प्रेम की गहन पड़ताल

पेड न्यूज क्या है?