पहुंचा, कि नहीं

घूरे को
बूंदाबांदी के बाद
घाम,
बूढ़े बरगद को
सादर प्रणाम -
पहुँचा कि नहीं?

खादी की धोती के नीचे
आयातित ब्रीफ,
और स्वदेशी के नारे पर
रेखांकित ग्रीफ.

अंकल ने पूछा है,
पित्रिघात का
पूरा दाम -
पहुँचा कि नहीं?

समान संहिता
आचार-विचार की
मरुथल में
क्रीडा
जल-विहार की

फिर भी देखो
व्हाइट हॉउस को
जय श्री राम -
पहुँचा कि नहीं?

इष्ट देव सांकृत्यायन

Comments

Popular posts from this blog

रामेश्वरम में

...ये भी कोई तरीका है!

आइए, हम हिंदीजन तमिल सीखें

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

रामेश्वरम में

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

आइए, हम हिंदीजन तमिल सीखें

...ये भी कोई तरीका है!

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

विदेशी विद्वानों का संस्कृत प्रेम ( समीक्षा)