Posts

Showing posts from March, 2011

नाम है भ्रष्टाचार !!!!!! [होली है !]

होली के दिन जनमा एक नेता का बेटा, मुसीबत बन गया चैन से नहीं लेता ? पैदा होते ही कमाल कर गया, उठा, बैठा और नेता की कुर्सी पर चढ़ गया ! यह देख डॉक्टर घबराई, बोली - ये तो अजूबा है ! इसके सामने तो साइंस भी झूठा है !! इसे पकड़ो और लिटाओ दुधमुंहा शिशु है, माँ का दूध पिलाओ । दूध की बात सुनकर शिशु ने फुर्ती दिखाई, पास खड़ी नर्स की पकड़ी कलाई बोला - आज तो होली है, ये कब काम आएगी, काजू-बादाम की भंग अपने हाथों से पिलाएगी । नेता और डॉक्टर के समझाने पर भी वह नहीं माना, चींख-चींखकर अस्पताल सिर पर उठाया, और गाने लगा 'शीला' का गाना ! उसके बचपने में 'शीला की ज़वानी' छा गई, 'मुन्नी बदनाम न हो इसलिए नर्स भंग की रिश्वत लेकर आ गई ! शिशु को भंग पीता देख नेताजी घबराये और बोले - 'तुम कौन हो और क्यों कर रहे हो अत्याचार ?' शिशु बोला - तुम्हारी ही औलाद हूँ और नाम है भ्रष्टाचार [] आप सबका हुरियारा - राकेश 'सोहम'

Gazel

         गज़ल                    -हरिशंकर   राढ़ी बन जाए सारी  उम्र गुनहगार इस तरह । करना न मेरी जान कोई प्यार इस तरह। सुनता  हूँ सकीने  पे भी लहरें मचल उठीं दरिया के दिल पे हो गया था वार इस तरह। महफिल में गम की आ गए यादों के परिंदे सूना सा मेरा दिल हुआ गुलजार इस तरह। उल्फत की जंग में न रहा जीत का जज़्बा  हम   एक  दूसरे से  गए  हार इस तरह । सपने  खरीदते रहे जीवन  के मोल हम चलता रहा इस देश में व्यापार इस तरह। तनहा गुजारनी थी मुझे रात वो ‘राढ़ी’ मुझमें समा गया था मेरा यार इस तरह।

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

रामेश्वरम में

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

चित्रकूट की ओर

चित्रकूट में शेष दिन