गजल

यूं कितने बेजान ये पत्थर
लेकिन अब इंसान ये पत्थर !

मोम सा गलने की कोशिश में
रहते हैं हलकान ये पत्थर।

टकरा कर शीशा न तोड़े
क्या इतने नादान ये पत्थर !

अपनी चोटों से क्यों इतना
रहते हैं अनजान ये पत्थर ?

इसके उसके जीवन के हैं
स्थायी मेहमान ये पत्थर।

(संदीप नाथ की यह गजल “दर्पण अब भी अंधा है” संग्रह से।)

Comments

  1. lajawaab है पूरी ग़ज़ल ......... बहुर ही अछे शेर हैं ........

    ReplyDelete
  2. यूं कितने बेजान ये पत्थर
    लेकिन अब इंसान ये पत्थर !
    सब कुछ तो कह दिया इस अकेले शेर ने
    सभी शेर बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  3. उम्दा ग़ज़ल.....
    बेहतरीन ग़ज़ल !
    ___बधाई !

    ReplyDelete
  4. एक बेहतरीन ग़ज़ल .
    सही है
    आज का इंसान, इंसान कहाँ रहा .
    पत्थर मानिंद हो गया है .
    पत्थर तो फिर भी
    कभी
    नींव का
    और कभी मील का पत्थर
    होते हैं.
    इंसानियत अब रही कंहाँ ?

    ReplyDelete
  5. बहुत उम्दा ग़ज़ल है जी
    पढ़वाने के लिए शुक्रिया

    ReplyDelete
  6. यूं कितने बेजान ये पत्थर
    लेकिन अब इंसान ये पत्थर !
    आप की गजल के एक एक शव्द से सहमत हुं, बहुत सुंदर.
    धन्यवाद

    ReplyDelete
  7. "In the name of God"
    Hello users,
    Please visit my website and link it:

    bahayiatbibaha.blogfa.com

    (Thank you)

    ReplyDelete

Post a comment

सुस्वागतम!!

Popular posts from this blog

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

रामेश्वरम में

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

चित्रकूट की ओर

चित्रकूट में शेष दिन