जोगी जी वाह जोगी जी!


इष्ट देव सांकृत्यायन



चढ़ते फागुन में
हम मूढ़ों को 
ज्ञान बताने आए 

खेल धर्म का 
खेल चुके तो खुलकर 
जात बचाने आए

कबीरा सारारारा........
जोगीरा रारारारा .........
जोगी जी वाह जोगी जी!

किसकी कीच, कमल किसका है,
किसका रंग किसकी पिचकारी 
सभी शरीफ़ों की
है आपस में
गहरी रिश्तेदारी.

जांच-फांच की नौटंकी पर धमक जताने आए
कबीरा सारारारा जोगीरा रारारारा
जोगी जी वाह जोगी जी!

दूर बहुत दिखता है उसको
जो घर में सुन भी ना पाए
इधर जो मौक़ा लहे ज़रा सा
लेकर धोकरा दौड़ा आए

पंचतत्त की होली में सब दही भुजाने आए
कबीरा सारारारा जोगीरा रारारारा
जोगी जी वाह जोगी जी!

सबने पी है छक कर यारां
बादल बरसे भंग
गेरुआ बाना भीगा देखो
नसों से निकला रंग

फागुन में जभी तो वो मल्हार गाने आए
कबीरा सारारारा जोगीरा रारारारा
जोगी जी वाह जोगी जी!


Comments

  1. आपको भी शुभ होली

    ReplyDelete
  2. are bahur badhia. sasasasasasararararararararara

    ReplyDelete
  3. kya.aaaa. kavitaa hai ...... araaaraaaraaa . rang abir or bhang.... sab kuchh ararararara

    ReplyDelete

Post a Comment

सुस्वागतम!!

Popular posts from this blog

रामेश्वरम में

विदेशी विद्वानों के संस्कृत प्रेम की गहन पड़ताल

...ये भी कोई तरीका है!

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

रामेश्वरम में

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

...ये भी कोई तरीका है!

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

आइए, हम हिंदीजन तमिल सीखें

विदेशी विद्वानों के संस्कृत प्रेम की गहन पड़ताल

पेड न्यूज क्या है?

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?