ग़ज़ल

इष्ट देव सांकृत्यायन

सरकार राजधानी में है, कोई लापता नहीं है
कहीं कुछ भी हो, सवाल उसकी नाक का नहीं है
वो जमता है कि गलता है अपनी मर्जी से
बर्फ़ से अब कोई रिश्ता ताप का नहीं है
तुमने बनाया मैं पहन लूं, ऐसा क्या क़ानून
दुनिया का हर कुर्ता मेरी नाप का नहीं है
बुलुआ के घर में सब टेढ़े, कुछ साजिश है
ये मामला किसी औघड़ के शाप का नहीं है
ललिया पर पत्थर बरसे, तुमने फेरी पीठ
लोकतंत्र में यह निर्णय केवल खाप का नहीं है
धूप-हवा-पानी पर सबका हक़ है भाई
इतना बड़ा आसमान अकेले आप का नहीं है
जबसे रेल चलने लगी बिजली से मारती है झटका
सुनते हैं, अब कहीं कोई इंजन भाप का नहीं है.

Comments

  1. आसमान अकेले आप का हीं है
    Bahut Khoo.....b

    ReplyDelete

Post a comment

सुस्वागतम!!

Popular posts from this blog

...ये भी कोई तरीका है!

आइए, हम हिंदीजन तमिल सीखें

प्रेम नाम होता बंधु!

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

रामेश्वरम में

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

चित्रकूट की ओर

...ये भी कोई तरीका है!