vyangya banam mahila visheshank

                               व्यंग्य बनाम महिला विशेषांक 
                                                                                   -हरिशंकर  राढ़ी
(दूसरी किश्त )
(यह व्यंग्य  समकालीन अभिव्यक्ति के नारी विशेषांक के 'वक्रोक्ति ' स्तम्भ के लिए लिखा गया था और अप्रैल -अक्टूबर २०११ अंक में प्रकाशित हुआ था .)
''व्यंग्यकार हो सका हूँ? अरे यह क्यों नहीं कहते कि जिनके कारण जिन्दगी स्वयं व्यंग्य हो चुकी है उसी पर व्यंग्य लिखना है! चलिए, मान लिया कि श्रीमती जी पर व्यंग्य लिख भी दूँ, फिर इस बात की क्या गारंटी है कि मेरे प्राण संकट में नहीं होंगे? मैं अपनी ही छत के नीचे अपरिचित नहीं हो जाऊँगा? अच्छी खासी दो रोटी मिल रही है, वह भी मुश्किल  हो जाएगी। कोई अंगरेजी लेखक भी नहीं हूँ कि प्रकाशक  इतनी रायल्टी दे देगें कि ढाबा ही अफोर्ड कर लूँ। या फिर इस बात की क्या गारंटी कि मेरे विरुद्ध प्रदर्शन  नहीं होगा या कानून नहीं उठ खड़ा होगा? सिर को मूड  कह देने से कोई बड़ा  फर्क पड  जाएगा क्या? क्या मेरी पत्नी महिला नहीं है?''


''यहीं आप सचमुच में गच्चा खा गए राढ़ी साहब। सच तो यह है कि आप महीन बातें समझते ही नहीं। पत्नी महिला होते हुए भी सही अर्थों में महिला नहीं होती। पत्नी एक इकाई होती है, निजी सम्पत्ति होती है जबकि महिला से एक समाज का बोध होता है । जब आप अपनी पत्नी के लिए कुछ कहते-करते हैं तो वह आपका निजी मामला होता है। उस पर संज्ञान नहीं लिया जाता है। वहीं अगर आप महिला शब्द  का इस्तेमाल करके कुछ कहते हैं तो वह एक समाज के प्रति हो जाता है। उसका अपना एक प्रदर्शनकारी  , हंगामाकारी सेल है। उसमें आपकी पत्नी भी शामिल  हो सकती है किन्तु आपकी पत्नी के साथ महिला समाज शामिल  हो, यह जरूरी नहीं। आप इसे यों समझ सकते हैं कि पत्नी आपके पारिवारिक मामले में आती है जबकि महिला राष्ट्रीय मामले में। कभी-कभी यह समस्या अन्तरराष्ट्रीय  भी हो सकती है। अतः आपके लिए पत्नी पर लिखना सुरक्षा की दृष्टि  से ठीक रहेगा।''

-''लेकिन मैंने तो कई बार देखा है कि पत्नी के मामलों में भी प्रदर्शन  की नौबत आ जाती है और आयोग तक जवाब मांगने लग जाते हैं।''

''होता है ऐसा। किन्तु यह दो स्थितियों में ही होता है - एक तो जब पत्नी जवान और सुन्दर हो, अर्थात लोगों की निगाह में हो। लोग यह समझते रहे हों कि इससे तो अच्छा वह उनके काम आ जाती। दूसरा तब, जब वह स्वयं को महिला मान ले और किसी महिला संगठन के उद्देश्यों  में सहायक होने के योग्य हो। चुनाव नजदीक हों तो पत्नी के साथ हुए अत्याचार विरोधी दल के भी काम आ सकते हैं। वैसे भी पत्नी एक उम्र तक ही पत्नी रहती है और बाद में दूसरे रोल में आ जाती है जबकि महिला किसी भी उम्र की हो सकती है परन्तु विशेष  परिस्थितियों में ही। वरना, अधिकांश  महिलाएं सामान्यतः स्वयं को महिला मानने से गुरेज करती हैं।''

यह रहस्योद्‌घाटन मेरे लिए किसी बम विस्फोट से कम नहीं था। ऐसा कैसे हो सकता है? एक महिला स्वयं को किन हालात में महिला नहीं मानेगी और ऐसा करने से उसे क्या लाभ होगा?
इस बार घसीटा भाई को मेरे ऊपर गुस्सा भी आया और तरस भी। बोले-'' दरअसल व्यंग्यकार महोदय, आपके अन्दर सौन्दर्यबोध है ही नहीं। शायद  यही कारण है कि व्यंग्यकार होकर रह गए।''


इस बार मैंने हिकारत भरी दृष्टि  घसीटा भाई पर डाली- तो सौन्दर्यबोध लेकर ही क्या कर लेता?
 या तो हुश्न &-इश्क  की गज़लें लिख लेता या फिर छायावादी कवि बनकर रह जाता । एक ही भाव और एक ही रस। वैसे भी इस नाभि और जघनदर्शना  दूरदर्शनी  युग में सौन्दर्य और श्रृंगार की कविताएं पढ  कौन रहा है\ vkजकल जिसे ज्यादा सौन्दर्यबोध हो जाता है वह अपने शयन कक्ष  में सौन्दर्यसाधना कर लेता है। इससे अच्छा तो मेरा व्यंग्य ही है। कम से कम सत्य का पुट तो है !
^^तो व्यंग्य में ही कौन सा नवरस विद्यमान होता है \ मक्खी की तरह ढूँढ -ढूँढ  कर गन्दगी निकालते रहो। तुम्हें कोई अच्छाई भी दिखती है किसी में\ महिला के विभिन्न रूपों में अन्तर तो ढूँढ  ही नहीं सके और चले हैं महिला विशेषांक  पर व्यंग्य लिखने! हुँह!**
खैर, महिला के विभिन्न रूपों के विषय  में सुनकर मैं हंस साहब से सारे मतान्तर और तर्कशास्त्र  भूल गया और ज्ञान प्राप्ति के लिए तत्पर हो गया। मेरी जिज्ञासा से प्रभावित होकर जी०डी० साहब बोले,'' यद्यपि यह सत्य है कि कोई भी कन्या, किशोरी ,  नवयुवती, युवती, पत्नी, प्रौढ़ा या वृद्धा सभी मूल रूप से महिला होती है किन्तु विशेष  लाभ की अनुपस्थिति में ये स्वयं को महिला नहीं मानतीं। वैयाकरणिक नियम अर्थात लिंग का नियम हमेशा  नहीं चलता।
यहाँ एहसास का अन्तर होता है । 'महिला' शब्द में व्याकरणिक लिंग के अलावा कोई  आकर्षण  और अनुभूति नहीं होती है। किसी नवयौवना को अकारण ही महिला कहकर देख लो। भगवान चाहा तो कोमल अंगुलियों की छाप भी पा जाओगे। भाई साहब, कहाँ एक 'लडकी' या 'युवती' का गुदगुदाता सम्बोधन, एक ग्लैमरस फीलिंग, कम उम्र का निहितार्थ और कहाँ 'महिला' का नीरस, निस्तेज, अनाकर्षक , उम्राधिक्य और लिंगबोधक जातिवाचक भाव ! लडकी, किशोरी,  युवती या दुल्हन ऐसे शब्द  हैं जो अपने आप में सुन्दरता , नजाकत, प्रेम, सेक्स जैसे मानवीय सद्‌गुणों से ओत-प्रोतहैं और जीवन के रस हैं। कई लोग तो ऐसे हैं जो इन्हीं शब्दों  के सहारे जीवन बिता देते हैं। दूसरी तरफ आपका 'महिला' है जो शुद्ध  सरकारी कार्य के अलावा और कोई रस ही नहीं देता । यहाँ तक कि वृद्धाएं  माताजी कहलाना पसन्द करती हैं] महिला नहीं!"
"तो फिर वे कौन सी परिस्थितियाँ होती हैं जिनमें कोई भी व्याकरणिक स्त्रीलिंग 'महिला' कहलाना पसन्द करती है?"
"परिस्थितियाँ नहीं, परिस्थिति। केवल एक ही परिस्थिति है- वह है आरक्षण। आरक्षण चाहे कैसा भी हो। बस में , ट्रेन में,  मेट्रो रेल में या टिकट खिड़की हो,  ये उम्र के बन्धन से ऊपर उठकर फटाक महिला हो जाती हैं। आप इनकी आरक्षित सीट पर तीन वर्ष की  कन्या को भी महिला रूप में देख सकते हैं। हाँ, कई बार यह भी देखा जाता है कि जवानी से लबरेज सुन्दरियाँ आराम से महिला बनी बैठी रहती हैं और सत्तर पार की वृद्धाएं बगैर महिलापद पाए हिलते-काँपते पैरों से महिला सीट को ललचाई - धुंधलाई नजरों से देखती रह जाती हैं। इन पर कोई महिला तो क्या, पुरुष  भी कृपा नहीं करता। यहाँ तो 'ग्लैमर लाओ- सीट पाओ, का सिद्धान्त चलता है। 

"देखिए, महिला और युवती का अर्थभेद और तत्सम्बन्धी ग्लैमर तो स्वीकार्य हो सकता है और होना भी चाहिए। जिस कन्यावर्ग से लेकर सामान्य वृद्धावर्ग के भरोसे अरबों-खरबों का सौन्दर्य बाजार चल रहा है, जिस ईश्वर प्रदत्त सौन्दर्य और लावण्य के कारण किसी को भी असामान्य सम्मान और अलिखित आरक्षण मिल सकता है उसे एक शब्द  'महिला' के चलते क्यों डुबाया जाए ? परन्तु सीट आरक्षण की थ्योरी मेरे समझ से  ईर्ष्या  और अफवाह के अलावा कुछ नहीं है। एक छोटे से सीट आरक्षण के लिए महिलाओं के प्रति आपका यह रवैय्या अत्यन्त नकारात्मक है। यहाँ तो आरक्षण के लिए लोग अपना जाति-धर्म तक बदलने को तैयार है,  जो लोग अपनी जाति का नाम नहीं लेना चाहते वे भी लाभ के लिए इसका लिखित प्रमाण पत्र साथ लेकर चलते हैं। यहाँ तक कि धनाधिक्य और बलाधिक्य के कारण जो लोग अपनी जाति पूरी तरह से भूल चुके हैं वे भी अपने आरक्षण के चक्कर में अपनी ही जाति के मरणासन्न प्राणियों पर दया करके अपनी जाति का दावा नहीं छोड़ते ! यह यात्रा तो पीढी  दर पीढ़ी  चली आ रही है! ऐसी स्थिति में व्याकरणिक स्त्रीलिंग की कोई भी सदस्या एक छोटी सी यात्रा में एक सीट पाने के लिए महिला बन जाती है और बिना देश -समाज का सत्यानाश किये  वाहन से उतरकर खुशबू  बिखेरती अपने गन्तव्य चली जाती है तो कौन सा पहाड  टूट पड ता है? जिस सदन  में उसे आरक्षण चाहिए, वहाँ तो बेचारी पा ही नहीं रही है और आप उसके आरक्षण का रोना रो रहे हैं । आप रखिए अपनी सलाह अपने पास, नहीं लिखना मुझे महिला विशेषांक  पर वक्रोक्ति।" 
    और अपने व्यंग्यकार होने का मोह छोड  मैं अपने घर बैरंग सा वापस आ गया।









Comments

  1. विवाह के बाद ही पता चलता है कि महिला क्या क्या हो सकती है..

    ReplyDelete

Post a comment

सुस्वागतम!!

Popular posts from this blog

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

रामेश्वरम में

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

चित्रकूट की ओर

चित्रकूट में शेष दिन