युद्ध

युद्ध में उतरने की कुछ शर्तें हैं

दिमाग की नसों में बारुद भरना

ऐसे गीत और नारों को गढ़ना जो

लहू के आवेग में आतिश पैदा कर दे

श्रेष्ठता की भट्टी में नस्लों को तपाना

और दुश्मन के खिलाफ दिल को जहरआलुदा करना

इसके बाद जरुरत होती है विज्ञान के फन पर बैठे हुये

घातक हथियारों की

दांत और नाखून से तो जानवर लड़ते है

आदम के औलाद नहीं

उन्हें तो चाहिए नस्लकसी करने वाले हथियार

हवाओं और पानी में जहर पैदा करने वाले हथियार

युद्ध सांचे में ढली हुई कोई चीज नहीं है

और न ही किसी कमसिन दुल्हन के सुर्ख होठों

पर दौड़ती हया की लकीर

यह दावानल है

धरती को पलक झपकते राख करने की सलाहियत से भरपूर

युद्ध समाजवाद है

बच्चों, बुढ़ों, औरतों और जवान में फर्क नहीं करता

युद्ध फासीवाद और नाजीवाद  है

रक्त श्रेष्ठता पर सवार होकर

मदमस्त हाथी की तरह चिंघाड़ता है

युद्ध लोकतंत्र है

अल्पमत पर बहुमत के डंडे की तरह

Comments

Popular posts from this blog

रामेश्वरम में

विदेशी विद्वानों के संस्कृत प्रेम की गहन पड़ताल

...ये भी कोई तरीका है!

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

रामेश्वरम में

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

...ये भी कोई तरीका है!

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

आइए, हम हिंदीजन तमिल सीखें

विदेशी विद्वानों के संस्कृत प्रेम की गहन पड़ताल

पेड न्यूज क्या है?

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?