गज़ल

                              - हरिशंकर  राढ़ी

गाँव में मेरी माँ रहती है
गंगा-सी निर्मल बहती है।

बेटा बहुत संभलकर रहना
आज तलक हरदिन कहती है।

भूखे पेट न सो जाऊँ मैं
उसके मन चिंता पलती है।

मन तुलसी, वाणी कबीर सी
सूरदास का रस भरती है।

सुबह - दोपहर - शाम सरीखी
मधुर चाँदनी-सी ढलती है।

उन सिक्कों को देख रहा हूँ
जिनसे सबकी माँ छिनती है।

रोऊँ भी तो कैसे राढ़ी
रोने कब माँ दे सकती है।

(माँ की चौथी  पुण्यतिथि पर, 04 फरवरी , 2014 )

                    

Comments

  1. माँ तो माँ हो होती है जो सदा साथ चलती है विनम्र श्रीद्धांजलि ...

    ReplyDelete

Post a comment

सुस्वागतम!!

Popular posts from this blog

...ये भी कोई तरीका है!

आइए, हम हिंदीजन तमिल सीखें

प्रेम नाम होता बंधु!

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

रामेश्वरम में

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

चित्रकूट की ओर

...ये भी कोई तरीका है!