Posts

Showing posts from December, 2019

शर्म आपको मगर नहीं आती

अगर आप सही मायने में एक सुरक्षित जीवन चाहते हैं जिसमें न समाज का कोई भय हो, न पुलिस का, न सरकार का, न कानून का और न ही किसी और का अगर आप चाहते हैं कि आपके मारे जाने पर देश भर में हल्ला मचे
मीडिया से लेकर तथाकथित सामाजिक कार्यकर्ता और मानवाधिक्कारवादी तक
सब एक सुर में रेंकें
और रेंक रेंक कर पूरी दुनिया का जीना हराम कर दें तो आपके पास कुल जमा दो ही रास्ते हैंं- या तो आतंकवादी बन जाइए
या फिर जघन्य बलात्कारी. देखिए, हैदराबाद में चार दरिंदों के मारे जाते ही एनएचआरसी पहुँच गई. जरा पूछिए इनसे कभी किसी आम इंसान के, शरीफ आदमी के मारे जाने पर ये कहीं पहुंंचे हैं क्या? पूछिए इनसे कि उस स्त्री का भी कोई मानवाधिकार था या नहीं?

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

रामेश्वरम में

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

चित्रकूट की ओर

चित्रकूट में शेष दिन