Posts

Showing posts from September, 2019

Haldighati and Nathdwara

Image
यात्रा संस्मरण शौर्य एवं स्वाभिमान की भूमि हल्दीघाटी                                                         -हरिशंकर राढ़ी हल्दीघाटी की भूमि पर पहुँचकर जैसे एक बहुत लंबी अभिलाषा पूरी हुई थी। स्मारक के चबूतरे पर चेतक पर सवार की विषाल मूर्ति देखना तथा उस काल को महसूस करना रोमांचक ही नहीं, स्वाभिमान, देशभक्ति और उच्च जीवनमूल्यों से जैसे साक्षात्कार करना था। हल्दीघाटी -- अरावली पर्वतमाला में उदयपुर के पास पहाड़ियों के बीच एक छोटा सा रणक्षेत्र विदेशी आक्रांता मुगलवंशज अकबर की विशाल  सेना और स्वाभिमान के प्रतीक राणा प्रताप के बीच हुए भयंकर यु़द्ध का साक्षी है। यह वह युद्ध था जिसमें दस हजार राजपूत सैनिकों की आत्माहुति की भावना तथा स्थानीय वनवासी भीलों के सहयोग से राणा ने मुगलसेना के दाँत खट्टे कर दिए थे। यदि उस युद्ध में चेतक घायल नहीं होता तो निश्चित ही परिणाम कुछ और होता !

यह सच है कि बालमन पर पड़ी छाप को छुड़ा पाना बहुत मुश्किल होता है। हमारे समय में प्राथमिक कक्षाओं में राणा प्रताप के घोड़े चेतक पर एक कविता पढ़ाई जाती थी ‘रणबीच चौकड़ी भर-भरकर चेतक बन गया निराला था’ जिसे वीररस के प्रसिद्ध कवि …

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

रामेश्वरम में

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

चित्रकूट की ओर

चित्रकूट में शेष दिन