परसाईं जन्मोत्सव 22 अगस्त 2010

विगत 22 अगस्त को व्यंग्यशिल्पी हरिशंकर परसाईं का जन्मोत्सव उनकी कर्म नगरी जबलपुर में मनाया गया । अस्वस्थता के कारण मैं उस आयोजन में शामिल ना हो सका । वे मेरे और अनेकों साहित्य सेवियों के गुरु हैं । उन्हें शत-शत नमन ! इयत्ता के सुधि अनुसरण कर्ताओं के लिए निम्नांकित लिंक [ब्लॉग टुटही पलानी बोले ] दे रहा हूँ । जिसमें इस अवसर पर राष्ट्रपति पुरूस्कार प्राप्त पत्रकार और साहित्यकार श्री लक्ष्मीकांत शर्मा ने अपने ब्लॉग के माध्यम से एक बात रखी है । प्रत्क्रियायें उनके ब्लॉग तक पहुंचे । वे हिंदी और भोजपुरी के अच्छे कवि भी हैं ।
http://tutheepalaaneebole.blogspot.com/2010/08/blog-post.html#comments

Comments

Popular posts from this blog

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

रामेश्वरम में

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

चित्रकूट की ओर

चित्रकूट में शेष दिन