बेरुखी को छोडि़ए

रतन

प्यार है गर दिल में तो फिर
बेरुखी को छोडि़ए
आदमी हैं हम सभी इस
दुश्मनी को छोडि़ए

गैर का रोशन मकां हो
आज ऐसा काम कर
जो जला दे आशियां
उस रोशनी को छोडि़ए

हैं मुसाफिर हम सभी
कुछ पल के मिलजुल कर रहें
दर्द हो जिससे किसी को
उस खुशी को छोडि़ए

प्यार बांटो जिंदगी भर
गम को रखो दूर-दूर
फिक्र आ जाए कभी तो
जिंदगी को छोडि़ए

गुल मोहब्बत के जहां पर
खिलते हों अकसर रतन
ना खिलें गुल जो वहां तो
उस जमीं को छोडि़ए

जानते हैं हम कि दुनिया
चार दिन की है यहां
नफरतों और दहशतों की
उस लड़ी को छोडि़ए

Comments

  1. खुबसूरत गज़ल हर शेर बहुत खूब , मुवारक हो

    ReplyDelete
  2. हैं मुसाफिर हम सभी
    कुछ पल के मिलजुल कर रहें
    दर्द हो जिससे किसी को
    उस खुशी को छोडि़ए ।
    क्या बात है रतन जी, बहोत खूब ।

    ReplyDelete
  3. कविता तो सुंदर है ही आपकी. ब्लाग का हैडर भी ताज़गी भरा लगा :)

    ReplyDelete
  4. सही कहा भाई रतन आपने। कहीं पढा था “नफ़रत की तो गिन लेते हैं, रुपया आना पाई लोग। ढ़ाई आखर कहने वाले, मिले न हमको ढ़ाई लोग।” ऐसे में आपका यह निवेदन लोगों पर असर करे यही दुआ है,

    ReplyDelete
  5. vaah bhyi vaah bhut khub achchi baat achche alfaaz or achche andaaz ab men kya khun bhaayi mubaark ho. akhtr khan akela kota rajsthan

    ReplyDelete
  6. बहने दो, की रोकोगे तो बस होगी बेचैनी,
    एक साँस लीजिये 'मजाल', दूसरी को छोड़िए

    ReplyDelete
  7. हैं मुसाफिर हम सभी
    कुछ पल के मिलजुल कर रहें
    दर्द हो जिससे किसी को
    उस खुशी को छोडि़ए

    बहुत खूबसूरत बात कही है ..

    ReplyDelete
  8. हर शेर लाजवाब. सुंदर प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  9. प्रभावशाली ढंग से कही गयी बहुत ही कल्याणकारी बात...
    सार्थक सन्देश दिया आपने इस सुन्दर रचना के माध्यम से.....

    ReplyDelete

Post a comment

सुस्वागतम!!

Popular posts from this blog

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Azamgarh : History, Culture and People

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

रामेश्वरम में

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

चित्रकूट की ओर

चित्रकूट में शेष दिन