कोई कहाँ है अपना

रतन
सभी अपने हैं मगर कोई कहॉ है अपना
यों तो कहने के लिए सारा जहाँ है अपना
लोग कहते हैं कि तुम दिल में मेरे रहते हो
सच यही है कि नहीं कोई मकां है अपना
लोग जो करते हैं ओ जानें करम है उनका
यह जनम अगला जनम उनपे फ़ना है अपना
वो न समझें वो न जानें कोई गुस्ताखी नहीं
ग़लत-सही हो जान उनपे फ़िदा है अपना
आपसा हमने उन्हें माना जो थे आपके लोग
जिनके बारे में बताया कि फलां है अपना
भूल जाये ये जहाँ खत्म हो जाये दुनिया
ख़त्म होगा नहीं वो नामो-निशां है अपना
यकीन तुम न करो पर है यही सच्चाई
कि रतन अलग सा अंदाजे बयाँ है अपना


Comments

  1. भूल जाये ये जहाँ खत्म हो जाये दुनिया
    ख़त्म होगा नहीं वो नामो-निशां है अपना


    --वाह्ह!! बहुत खूब..मजा आया पढ़कर.

    ReplyDelete
  2. लोग कहते हैं कि तुम दिल में मेरे रहते हो
    सच यही है कि नहीं कोई मकां है अपना

    सतर्क रहिएगा, कहीं ऐसा कहने वाले दिल का किराया न मांगने लगें.

    ReplyDelete

Post a comment

सुस्वागतम!!

Popular posts from this blog

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

रामेश्वरम में

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

चित्रकूट की ओर

चित्रकूट में शेष दिन