Posts

Showing posts from February, 2011

मेरी पहली सरस्वती वंदना .....

Image
मेरी पहली सरस्वती वंदना
---------------------
वर दे, वीणावादिनि वर दे।
प्रिय घोटालेबाजी नव, झूठ फरेब मंत्र हर मन में भर दे।

काट अंध सच के बंधन स्तर
बहा धन के नित नव निर्झर
ईमानदारी हर बस घोटाले भर
घोटाले ही घोटाले कर दे।
चहुँदिश होंवें कलमाडी सर,
कंठ कंठ हों घोटाले स्वर
राजा हों या प्रजा जी हों
सबको घोटालेबाज कर दे।

आओ बदलें शहरों की आत्मा...

Image
गांवों का शहरीकरण हुआ इसमें बुराई भी क्या है..सुख-सुविधा संपन्न हों हमारे गाँव अच्छा ही तो है, लेकिन क्यूँ न हम गाँव वाले जो गाँवबदर हो शहर आ बसे,कुछ ऐसा करें कि शहरों की काया तो शहरी ही हो पर आत्मा का जरुर ग्रामीनिकरण हो जाये....सुख-सुविधा तो शहर की हों पर अपनापन,संबंधों की मिठास, छोटे-बड़े का सम्मान, रिश्तों की गरिमा, खानपान,मस्ती,आबोहवा और अनेकता में एकता से जीने का अहसास गाँव का हो..आप क्या कहते हैं.. ..?

matri smriti

                                                             मातृ स्मृति
और अब पहली पुण्यतिथि भी आ गई.....। जैसे विश्वास  करना मुश्किल  हो। पूरे वर्श में शायद  कोई ही दिन रहा हो जब उनकी याद दस्तक देकर, कुरेद कर और निर्बल महसूस कराकर न गई हो। सच तो यह है कि मैं उनकी यादों से भागना भी नहीं चाहता। मुझे भी एक सुकून सा मिलता है यादों में डूबकर। कभी- कभी तो लगता है कि उन यादों के अलावा कोई अन्य शरण  स्थल ही नहीं है। जैसे दर्द ही अब दवा हो। मैं नहीं जानता कि उम्र के पाँचवें दशक  में भी माँ के बिना अनाथ की स्थिति में आ जाना, बेहद अकेला महसूस करना मुझे अच्छा क्यों लगता है ?

जैसे - जैसे फरवरी माह की ४/५   की वह रात नजदीक आती जा रही है, माँ का देहत्याग और तीव्रता से याद आने लगा है। सब कुछ किसी फिल्म की रील की तरह आँखों के सामने घूमता जा रहा है। मुझे यह भी नहीं लगता कि यह कोई सांसारिक मोहपाश  है क्योंकि इस पूरे वर्ष  में मैंने यह महसूस किया कि माँ का अस्तित्व और सम्बन्ध सांसारिकता से ऊपर है। मैं तो इस सम्बन्ध को आध्यात्मिक मानने लगा हूँ। ना जाने वह कौन सा बन्धन है जो बरबस अपनी ओर खींच लेता है।


मा…

चन्दन चन्दन रूप तुम्हारा केसर केसर सांसे...

Image
चन्दन चन्दन रूप तुम्हारा केसर केसर सांसे,
इन आँखों में बसी हुई हैं कुछ सपनीली आशें...
मुझमें तुम हो तुम में मैं हूँ तन मन रमे हुए हैं,
प्रेम सुधा बरसाती रहती अपनी दिन और रातें...
जब से दूर गई हो प्रिय सुध बुध बिसर गई,
याद तुम्हारी साँझ सवेरे आँखों में बरसातें...
दर्पण मेरा रूप तुम्हारा यह कैसा जादू है,
जब भी सोचूँ तुमको सोचूँ हर पल तेरी यादें...

हमाम में सब नंगे- दोषी कौन ?

Image
कार्यपालिका, विधायिका, न्यायपालिका और मीडिया यानि कि लोकतंत्र के चार खम्बे... और आज ये चारों खम्बे धराशायी होने को हैं...संसद हो या विधानसभा या फिर नगर-ग्राम की चुनी हुई प्रतिनिधि सभाएं...आलम हर ओर एक जैसा ही है...भ्रष्टाचार आम है...सरकारें नकारा और निकम्मी सी हो गई हैं...नेताओं की दशा और दिशा देख सर धुनने का मन करता है...देर से मिलने वाला न्याय भी कई बार भ्रष्टाचार के दरवाजे से ही होकर गुजरता है...इन सब पर लगाम रखने और लोकतंत्र की चौकीदारी की जिम्मेदारी मीडिया की मानी जाती रही है, पर आज वहां भी आलम वही है...सब एक दूसरे के गलबहियां हो रहे हैं यानि कि हमाम में सब नंगे हैं...आखिर इस सबका दोषी कौन....?

Most Read Posts

Bhairo Baba :Azamgarh ke

Maihar Yatra

Azamgarh : History, Culture and People

सीन बाई सीन देखिये फिल्म राब्स ..बिना पर्दे का

रामेश्वरम में

ये क्या क्रिकेट-क्रिकेट लगा रखा है?

गन्ने के खेत में रजाई लेकर जाती पारो

गढ़ तो चित्तौडग़ढ़...

चित्रकूट की ओर

चित्रकूट में शेष दिन